इसीलिए कहता हूँ कि बजरंगबली की भक्ति करो- अद्भुत सच्ची घटना

3
Mehandipur Balaji Adbhut Chamatkar

Shri Mehandipur Balaji Adbhut Chamatkar

इसीलिए कहता हूँ कि बजरंगबली की भक्ति करो- अद्भुत सच्ची घटना – हनुमानजी का चमत्कार

मेरा नाम उषा कौर है और मैं फरीदाबाद की रहने वाली हूँ, मैंने पिछले साल ही अपना पहला अनुभव आपको भेजा था जो आपने 17th दिसम्बर 2019 को अपनी वीडियो में शेयर किया था, Shri Mehandipur Balaji Adbhut Chamatkar

वो मेरे जीवन के बहुत बड़े चमत्कार थे जो श्री हनुमानजी की कृपा से हुए थे, इन चमत्कारों के बाद मेरी एक इच्छा थी जो श्री बालाजी ने पूरी कर दी, मैंने उस अनुभव वाली वीडियो के अंत में कहा भी था की अगर वो इच्छा मेरी पूरी हो जाएगी तो मैं आपसे अपना अनुभव ज़रूर शेयर करुँगी और वो इच्छा थी संतान की,

अपना पहला बेबी खोने के बाद मुझे बेबी और डिलीवरी के नाम से डर लगता था कि इस बार सब सही हो जाये, मैं भी ठीक रहु और बाबू भी ठीक से हो जाये इस बार कोई प्रॉब्लम न हो,

पिछले साल जब मैं श्री मेहंदीपुर बालाजी गयी थी तो यही मन्नत मांग के आयी थी की “अब हमारा बेबी ठीक से हो जाये, बिलकुल स्वस्थ हो और हमारे बेबी को आपने ही दुनिया में लाना है और उसकी रक्षा करनी है हमेशा उसपे अपना आशीर्वाद बनाये रखना प्रभु,

रक्षाबंधन आ रहा है और हर बार की तरह मैं आपको राखी बांधूंगी और इस बार मुझे राखी पे ये ही गिफ्ट चाहिए की हमारा बेबी ठीक से हो जाये, मन्नत मांग के मैं अपने हस्बैंड के साथ घर आ गयी थी जुलाई में,”

15th अगस्त को रक्षाबंधन था और 11th अगस्त को ही मुझे ये कन्फर्म हो गया कि मैं प्रेग्नेंट हूँ, मेरे भैया ने ये ख़ुशी भरा गिफ्ट मुझे दे दिया वो भी राखी के 4 दिन पहले ही, ये सुनकर मैं और मेरे हस्बैंड को बहुत ख़ुशी हुई, तभी मैंने मेरे बालजी को धन्यवाद बोला,

फिर बेबी कंसीव करने के 2 महीने बाद हम श्री मेहंदीपुर बालाजी गए आशीर्वाद लेने और दुआ करने की बेबी ठीक से दुनिया में आ जाये,

वहा बहुत भीड़ थी और गर्मी भी ऐसी थी की ऐसी हालत में लाइन में खड़े रहना मेरे हस्बैंड को ठीक नहीं लग रहा था, वो डर गए थे के कही धक्का न लग जाये किसी का, लेकिन मैंने कहा कुछ नहीं होगा बजरंगबली है न और बाकि आप हो ही मेरे साथ यहाँ लाइन में,

आप पढ़ रहे है: Shri Mehandipur Balaji Adbhut Chamatkar in Hindi

mehandipur balaji temple

इस तरह लाइन में रह के हम प्रभु के दरबार में पहुँचे और मेरी आँख में आंसू आ गए, मन ही मन मैं ये प्रार्थना कर रही थी की “हे बालाजी महाराज आज आपकी कृपा से बेबी मेरी कोख में है उसे 9 महीने अपने हाथों में रखना, बिलकुल ठीक और सही सलामत रखना और 9 महीने बाद मेरी गोद भर देना,

आपको ही बेबी की जीवन में रक्षा करनी है और अब आपको पता है की मैं बेबी होने के बाद ही आ पाऊँगी, पर आप हमेशा मेरे बेबी के साथ रहना और बेबी को गोद में लेके मुझे और मेरे हस्बैंड को बुलाना, मुझे भी उस दिन का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा,

ये मांग के हम घर वापस आ गए, इसके बाद मैं घर पर ही पूजा पाठ करती थी और रोज़ श्री हनुमान चालीसा और हनुमान बाहुक का पाठ करती थी पहले की तरह और ऑफिस जाती थी जहां मैं जॉब करती थी,

पूरे 7 महीने मेरा यही रूटीन रहा और मेरी तबीयत बिल्कुल ठीक थी, मैं घर भी संभालती और जॉब पर भी जाती थी, फिर 8 वे महीने में मुझे पेट में थोड़ा दर्द होना शुरू हुआ,

पढ़े: ऐसे घोर संकट से तो सिर्फ हनुमानजी ही बहार निकाल सकते है

मैंने चेकउप करवाया तो रिपोर्ट में आया की मेरे पहले ऑपरेशन के जो स्टीट्चेस है वो बहुत पतले हो गए है, जिसकी वजह से मुझे टोटली बेड रेस्ट करना होगा नहीं तो डिलीवरी समय से पहले होगी या कॉम्प्लीकेशन होंगे,

ये सुनकर मेरे हस्बैंड डर गये के अब ये क्या हुआ, सब तो सही चल रहा था फिर ये सब क्यों, अब 8 वा महीना इतने पतले तांको में कैसे खीचू कही कोई दिक्कत न हो जाये,

फिर मैंने ऑफिस से छुट्टी ले ली और घर पे बेड रेस्ट किया, मैं कही नहीं जाती थी और श्री हनुमानजी की पूजा करती रही साथ ही मैंने संकट मोचन का पाठ करना भी शुरू किया और प्राथना की के हमारा बेबी समय पर और बिलकुल ठीक ठाक आये, बस 8 वा महिना खिंचवा दो प्रभु,

इसी विश्वास के साथ पूजा पाठ करती रही और मेरे बालाजी ने 8 वा महिना क्रॉस करा दिया, 8 वे महीने के आखरी दिन मुझे पैन होने लगा और मैं हॉस्पिटल में एडमिट हुई, फिर 9 वे महीने के पहले ही दिन यानि 12th मार्च की सुबह के समय मुझे बेबी गर्ल हुई,

ऑपरेशन के समय भी मैं श्री हनुमान चालीसा का पाठ कर रही थी और बाहर मेरे हस्बैंड भी चालीसा कर रहे थे, श्री हनुमानजी ने हमारी सुन ली और हमारे घर लक्ष्मी का जन्म हुआ,

और मुझे उस क्यों का जवाब मिल गया की 8 वे महीने में मुझे बेड रेस्ट क्यों मिला? क्योंकि बेबी होने के 10 दिन बाद ही लॉकडाउन हो गया था और कोरोना के बढ़ने के कारण डिलीवरी होने में दिक्कत होती हॉस्पिटल्स में,

इसीलिए प्रभु ने 8 वे महीने में बेड रेस्ट के ज़रिये मुझे आराम दिलाया और बेबी की भी रक्षा की और मैं घर रहकर और पूजा पाठ और मेरे प्रभु का स्मरण कर सकी, इस तरह मेरे बजरंगबली ने मेरा और मेरे बेबी का ध्यान रख के 8 वा महीना पूरा होते ही मेरी गोद भर दी,

इसके बाद जो भी मुझसे बात करता या बेबी को मिलता वो यही कहता कि अच्छा हुआ की डिलीवरी लॉकडाउन के पहले हो गयी और ये सुनकर मैं मन ही मन अपने बालाजी को थैंक यू बोल देती,

तो ये था श्री हनुमानजी से जुड़ा एक और चमत्कार, बस मेरी एक ही ख्वाईश है की प्रभु इस कोरोना को खत्म कर दे और अपने द्वार खोल दे और हमें जल्द बुलाये और हमारी बच्ची को भी आशीर्वाद दे वो हमेशा ठीक रहे और खुश रहे, जो ख़ुशियाँ आपने हमें दी उन्हें बनाए रखना प्रभु.


Subscribe Secret Mysteries on YouTube

Shri Mehandipur Balaji Adbhut Chamatkar in Hindi, इस कहानी पर अपने विचार कमेन्ट के माध्यम से हम तक पहुंचाएं और यदि आपके साथ भी इस तरह का कोई चमत्कार हुआ है तो हमें dharmikstory@gmail.com पर लिखें, हम इस वेबसाइट पर आपकी कहानी प्रकाशित करेंगे.

धन्यवाद 🙂

जयेश वाघेला

3 COMMENTS

  1. Jayesh bhai, aap se yek help chahiye thi pareshani ye hai ki meri nanad ko 3 months ka yek beta hai aur vo lag bhag 2 months se apni maa ka dudh ni kha raha hai jab maa uski khilati v hai to babu sab ulti kar deta h jayesh bhai uske ghar me sabhi pareshaan hai sab kuchh kar ke dekh liye hai par kahi kuch asar ni hai plz jayesh bhai agar aap ke pas iska koi tod ho to batao us bachche ki khatir please🙏🙏🙏 Jay bajrangbali 🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here